यह वरदान है या फिर अभिशाप। best inspirational article in hindi

 
Friends, Life में हम जो भी सोचते हैं, वो सब सही-सही ही हो यह जरूरी नहीं होता।  हम सोचते कुछ और हैं, और उसका रिजल्ट कुछ और ही मिलता है। जिन स्टूडेंट्स पर सबसे ज्यादा भरोसा होता है, वो या तो फ़ैल हो जाते हैं या फिर बहुत ही मुश्किल से Pass होते हैं, और जिन पर भरोसा नहीं होता, वो टॉप कर जाते हैं। जिन पर हमें बहुत विश्वास होता है, वो धोखा देते हैं और जिनसे कोई उम्मीद नहीं होती वो मुश्किलों में हमारे साथ खड़े रहते हैं।

Actually जिन  Accident को हम अपना दुर्भाग्य समझते थे, वो अचानक ही सौभाग्य में बदल जाती हैं और सौभाग्य दुर्भाग्य में।  हमारी लाइफ में घटी ऐसी बहुत-सी घटनाएँ होती हैं जिसका पता हमें तब चलता है जब हम पीछे पलटकर देखते हैं और हमें समझ नहीं आता कि इन घटनाओं को वरदान का नाम दें या फिर अभिशाप का। 

मेरे स्वयं के साथ घटी एक सच्ची घटना 

आज से तीन साल पहले, मैंने BSc में Admission लिया था, लेकिन मुझे उस पढाई में कोई Value नहीं दिखी। मैं बस 4-5 दिन ही College गया।  मैंने College Admission form तो Fill किया था लेकिन उसके 6 महीने बाद भरी जाने वाली Exam form मैंने नहीं भरी।  मुझे कोई Idea नहीं था कि मैं जो कर रहा हूँ वो सही है या फिर गलत। College न जाने के बावजूद, मैं वहां से Science की कई किताबें Issue कराकर अपने Room में ही पढ़ा करता था।  मेरे दोस्त, मुझे अलग निगाहों से देखते थे क्योंकि वे सभी जॉब करते हुए BSc के परीक्षा की तैयारी कर रहे  थे, कई दोस्तों ने मुझे ताने भी कसना शुरू कर दिया कि तू सिर्फ अपने Parents का पैसा Waste कर रहा है।  लेकिन मैंने उनकी बातों पर कभी ध्यान नहीं दिया। मैं शुरू से ही कुछ बड़ा करने का सोचा करता था। एक दिन मेरे कुछ दोस्त मुझे एक Network Marketing की Meeting में ले गए।  मैं उन सबकी बातें सुनकर हैरान हो गया क्योंकि वो सब एक महीने में लाखों कमाने की बात कह रहे थे।  क्योंकि उनका पूरा प्रोजेक्ट Internet पर Based था और Computer System पर आधारित था इसी कारण मुझे इस फील्ड में Interest आने लगा।  मेरे दोस्त मुझे Internet Cafe ले जाते और वहां मुझे Internet Surf करने का मौका मिलता था।  मैं पूरे 10 मिनट Net Cafe में Internet use करता और उस Time मुझे बहुत ही ज्यादा ख़ुशी होती थी  क्योंकि मुझे पता नहीं था कि मेरे दोस्त पहले से ही 9000 Paid करके इस काम को कर रहे हैं, और वो मुझे अपने Circle में Add करके उस  Group का एक Member बनाना चाह रहे थे। 
क्योंकि मुझे Internet और Computer से लगाव होने लगा था इसलिए मैंने 9000 Paid करने का फैसला कर लिया और वह भी उस वक्त जब मैं बहुत ही सस्ते मकान में Room rent पर रहा करता था, जहाँ किराये का खर्च निकालना भी मेरे लिए मुश्किल साबित हो रहा था।  लेकिन मैंने ठान लिया था कि उनके साथ काम करना है और कैसे भी करके पैसों का Arrangement करना है।  मैंने तुरंत अपने घर के लिए Bus पकड़ा और Papa से इस बारे में बात की। Papa को पता था कि मैं Medical Exams की तैयारी कर रहा हूँ, यही सोचकर वो Medical Field में मुझे भेजने के लिए एक-एक रूपये जोड़ रहे थे। मैंने, उनको कन्वेंस किया कि मैं जो कर रहा हूँ वो आगे सही होगा।  मेरे समझाने के बाद Papa ने मुझे 9000 रूपये दिए, जिन्हें लेकर मैं अगले ही दिन अपने दोस्तों के पास चला गया।  उस वक्त मैं पैसे कमाने के बारे में नहीं बल्कि सिर्फ Internet use करने के बारे में सोच रहा था।  मैं अब उनके Group का एक Member बन चूका था।  मेरी मुलाकात वहां Software इंजीनियर्स और एक Web Developer से हुई।  मैं उन्हें Laptop use करते हुए देखा करता था। वो बार-बार ऑनलाइन शॉपिंग, ब्लॉगिंग जैसे शब्दों का इस्तेमाल करते थे, और उस वक्त ये सब मेरे दिमाग से बाहर था। 
मैं रजनी से भी ये सारी बातें Share किया करता था जो मेरी क्लासमेट थीं लेकिन उसे भी इस बारे में कुछ भी Idea नहीं था। 
कुछ दिन बाद मेरे एक और दोस्त जो मेरे Room के बगल में ही रहता था, वो मुझे एक और अलग Network Marketing की Meeting में ले गया और वहां जाते ही मुझे Business से related काफी चीजों का Knowledge हो गया।  और मैं हर Sunday वहां भी जाने लगा।  लेकिन अब वहां भी 8000 रूपये Paid करने के लिए कहा गया। 
मुझे इस बात की जानकारी दी गयी थी, कि यदि मुझे 9000 Paid करने के बाद इस बिजनेस में कोई Value नहीं दिखी तो एक महीने के अंदर मैं अपना Order cancel कर सकता हूँ।  इत्तेफ़ाक़ से उस बिजनेस को ज्वाइन किये 30 दिन पूरे होने वाले थे।  महीने की आखिर तारीख को मैंने अपने 9000 रूपये वाले Product को मोबाइल से Online Cancel किया और उस नेटवर्क मार्केटिंग के Head office में इस बात की जानकारी  दी और वहां से  जब मुझे पता चला कि मेरा ऑर्डर कैंसल हो चूका है और मेरा पैसा मुझे रिफंड किया जा रहा है तब मुझे बहुत ही ज्यादा ख़ुशी हुई। 

मैंने दूसरे Network marketing Business में भी जॉइन नहीं किया क्योंकि मुझे इन सारी चीजों की जानकारियां हो चुकी थीं। 

मेरे दोस्तों के सारे पैसे डूब गए, जो सिर्फ पैसे कमाने के लिए उस बिजनेस को शुरू किये थे।  और मेरा 8600 रूपये मुझे Refund मिल गए।  हाँलाकि 400 रूपये मेरे भी वापिस नहीं आये लेकिन इन 400 रूपये में मुझे बहुत कुछ सिखने को मिला। 

एक साल Gap करने के अंदर मैंने Medical में बहुत मेहनत की पर Competition exams में बेहतर नहीं कर सका। 
पूरा Interest अब Computer फील्ड में था।  आगे बढ़ने के लिए और Motivation के लिए मैंने सैंकड़ों किताबें, इस बीच पढ़ी। कहानियां लिखने, का शौक इसी बीच आया।  लोगों को मोटिवेट करने का ज़ज्बा इसी बीच जागा। 



BSc से BCA करने को अभिशाप कहें या वरदान। 

एक साल पढाई गैप करके इतनी सारी चीजें सीखने को अभिशाप कहें या फिर वरदान। 

Network Marketing Field में घुसकर, पैसे रिफंड कराके, इंटरनेट और कंप्यूटर फील्ड से जुड़ने में रुचि दिखाने को अभिशाप कहें या फिर वरदान। 

बिना जॉब किये, आज की तारीख में मेरे उन सभी दोस्तों से इतनी ज्यादा मंथली इनकम कर पा रहा हूँ जो वो एक साल में करते हैं।  इसका अंदाजा लगाना थोड़ा मुश्किल है....। 


डॉक्टर बनने का सपना लेकर  एक प्रोफेशनल ब्लॉगर, लेखक, मोटिवेशनल स्पीकर और ब्लॉग डिजाइनर बनने को अभिशाप कहेंगे या वरदान 


दोस्तों, आज मैं सिर्फ इसलिए सफल हूँ या मुझे इसलिए सफलता मिल रही है क्योंकि मैंने अपने दिल के काम को ढूंढ लिया है।  यदि आप सफल होना चाहते हैं तो अपने निर्णय स्वयं लेना सीखिये।  दूसरों के भरोसे बैठे रहने से कुछ भी हासिल नहीं होने वाला है, अपने रास्ते खुद ही बनाइये, नक्शा देखकर आगे बढ़ना सही है पर उसी नक़्शे के दम पर पूरी जिंदगी जीना बहुत  ही मुश्किल  है। 

एक बात हमेशा याद रखिये कि "जो होता है, हमेशा अच्छे के लिए ही होता है। " यदि मैंने BSc की पढाई नहीं छोड़ी होती तो शायद ही HamariSafalta.Com    Launch  हो पाता। यदि मैं अपने दोस्तों द्वारा बताये गए नेटवर्क मार्केटिंग सेमिनार में नहीं जाता तो शायद ही इस मुकाम तक  पहुंच पाता। आप जिस क्षेत्र में सफल होना चाहते हैं उसके लिए सही दिशा में मेहनत कीजिये और यदि पूरी मेहनत के बावजूद भी कुछ नहीं हो रहा होतो पर भी हार मत मानिये क्योंकि हो सकता है कि  भगवान आपको कुछ बेहतर देना चाह रहे हों! 
याद रखिये- "हर वो मुश्किल जो आज आपको परेशान करने में तुली हुई है, कल वही आपके लिए सफलता का द्वार  खोल सकती है। "
                                                                                       धन्यवाद!

वरदान कहें या फिर अभिशाप, यदि ऐसी घटना आपके साथ भी घटी हो तो कृपया कॉमेंट के माध्यम से आप अपनी जानकारी हम तक जरूर पहुंचाएं ताकि सभी रीडर्स भी आपकी स्टोरी पढ़ सकें।


Also Read:-
1.  कहीं सफलता आपकी शांति तो नही छीन रही
2. सक्सेसफुल स्पीकर के सात गुण
3. संदेह करोगे तोनही मिलेगी सक्सेस.
4. बहाने बनाना छोड़िये, बर्बादी से नाता तोडिये..
5. आपका अधिकार सिर्फ कर्म करने पर है, फल की चाहत पर नही

              
                    ----पढ़ें एक से बढ़कर एक प्रेरणादायक हिंदी आर्टिकल्स----          

Labels: , , , , , ,