Narendra Modi Best Motivational Speech in Hindi

Best Motivational Speech by Narendra Modi in Hindi

देश के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के द्वारा यह प्रेरणादायक स्पीच विज्ञान भवन में Startup India के लिए दिया गया था ... आइये आप सब भी इस स्पीच को ध्यान से पढ़िए और अपने लेवल पर स्टार्टअप के लिए सहयोग दीजिए...


देश के हर इंसान के दिल में एक ख्वाब होता है, उस ख्वाब के साथ उसके मन में कुछ विचार भी होता है, कुछ ideas भी होते हैं.
कुछ लोगों के Ideas हर दिन पैदा होते हैं और सांझ होते-होते बाल मिट्टी हो जाता है. लेकिन कुछ लोग होते हैं जो आईडिया के साथ involve हो जाते हैं, वो उससे बाहर नहीं निकलते ... और पूरा परिवार परेशान हो जाता है कि ये कुछ करता नहीं बस इसी में लगा रहता है. किसी से बात नहीं करता है, यार दोस्तों से नहीं मिल रहा है क्या हो गया है इसको!  कहीं पागल तो नहीं हो गया!    लेकिन वही एक-दिन कुछ कमाल करके दिखा देता है.. तब पूरे परिवार को लगता है - नहीं-नहीं साहब, वह तो पहले से अच्छा था.
क्योंकि ज्यादातर एक 1st Generation Entrepreneurs हैं...
&  जब कुछ सोचा हुआ हो -अपना काम नहीं है! तू बेटा कहीं नौकरी कर ले..
शुरू में जब दोस्तों ने सुना होगा, बहुत मजाक उडाया होगा, उपहास किया होगा .. जाते-आते आपको उसी उपनाम से सुनाते होंगे..ये कुछ करने वाला है, करने वाला है...
जब एक पल आया होगा सारी ओर विरोध हुआ होगा ..सब दूर, परिवार के लोगों ने विरोध किया होगा कि जाओ कमाओ..नौकरी कर लो...
उस विरोध के बावजूद भी जो टिके होंगे, आज सब लोग कहते होंगे कि हाँ इसने तो कमाल ही कर दिया...कुछ ऐसा मुझे भी करना है... हर किसी के स्टार्टअप के जिंदगी की यही कहानी है..
विशाल और सफल कारोबार का निर्माण करने के लिए असफलताओं से बचा नहीं जा सकता.. जो पानी से भागता है वो कभी तैरना नहीं सीख सकता.. एक बार तो डूबना ही पड़ता है तब जाकर के तैरना शुरू होता है.. हर चीज की कई शुरुआत होती है तो जो करता है उसकी को दिखता है क्या होने वाला है औरों को यही दिखता है कि पागल है!
पैसे कमाने के इरादे से जो आता है वो कभी  स्टार्टअप कर ही नहीं कर सकता.. जो कुछ करने के इरादे से आता है पैसे उसके लिए by Product होते हैं.. एक भीतर से ऊर्जा होती है, भीतर में सपने होते हैं उसके साथ खप जाने का इरादा होता है तब जाकर के परिस्थितियां पलटती हैं.. जो एप बनाता है या जो स्टार्टअप की दुनिया में एंटर होता है या कोई नई चीजों को एनोवेट करता है उसके मूल में, उसके अंदर एक संवेदना होती है .. बहुत कम लोग इस बात को अनुभव कर पायेंगे और वो जब कोई बुरे हाल देखता है, कुछ समस्या देखता है वो उसे सोने नहीं देती... समस्या उसकी नही है किसी और की है.. लेकिन वो उसे सोने नही देती.. उसका मन कहता है कि मैं कोई रास्ता खोजूं, मैं कुछ करूँ उसके लिए ... किसी के लिए जो कोई दर्द होता है, जो हमें हमारे भीतर एक ऐसी अवस्था पैदा करती है जो इन लाखों करोड़ों के दर्द को कम करने का कारण बन जाती है.. और तब स्टार्टअप होता है..
हर स्टार्टअप के पीछे कोई न कोई समस्या के समाधान का इरादा रहना चाहिए और जब किसी स्टार्टअप के पास समस्या के समाधान का इरादा होगा तो उसकी संतोष का लेबल भी कुछ और होगा ...
स्टार्टअप कहने के बाद कुछ लोगों की सोच होती है ये बड़ा हाई फाई होगा, लैपटॉप के बाहर दुनिया कुछ नही होगी!  मोबाइल से जुड़े होंगे कि हर किसी के पास बिलियन डॉलर का काम हो रहा है और दो हजार लोग काम करें!  जरूरी नही है... 5 लोगों को भी अगर मैं रोजगार देता हूँ तो मेरा स्टार्टअप मेरे देश को आगे बढा रहा है..
एक Psychological change लाना है ..कि Youth के दिमाग से Job Seeker  की मानसिकता को बाहर लाना है .. वो Job Creator बने और एक बार उसके दिमाग में आ गया कि मुझे दो लोगों की जिंदगी को संवारना है तो वो कर लेगा...
मैं वो कुछ करके दिखाऊं जिससे मैं जॉब क्रियेटर बनूं, मैं वो कुछ करके दिखाऊं कि जिसके कारण किसी की जिंदगी में मैं काम आऊँ...मैं वो कुछ करके दिखाऊं कि मेरे देश को एक कदम ले जाने में मेरा भी कोई योगदान हो ... इतना भी सपना लेकर के यदि हम चलते हैं हम बहुत कुछ कर सकते हैं...



यह था हमारे देश के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी की प्रेरणादायी स्पीच..  जो हमें बताती है कि हम अपने क्षेत्र में कोई भी काम यह सोचकर बिलकुल न करें कि हमें कहीं जॉब करनी है बल्कि हमेशा ऐसा रास्ता बनाएँ कि हम दूसरों को जॉब दे सकें... यदि आपके कारण किसी के घर का चूल्हा जल रहा है तो इससे बड़ी बात शायद ही कुछ होगी... इसलिए दोस्तों आप सब भी इस स्पीच की हर एक बात को ध्यान से समझें और दूसरों की लाइफ बदलने के लिए आगे आयें.. क्योंकि दूसरों को आपकी जरूरत है....

धन्यवाद!

Labels: , , , ,