How to Start a Startup Business in Hindi- 3 Principles

नमस्कार दोस्तों,
Peter Thiel एक Billionaire Entrepreneur,  Venture Capitalist और Founder हैं, PAYPAL के।
उन्होंने स्टार्टअप बिजनेस के ऊपर stanford university में एक Lecture दिया था, उस Lecture में उन्होंने स्टुडेंट्स को कुछ principles बताए थे जिससे कि वे Students भी उनकी तरह बिलियन डॉलर का बिजनेस बना सकते हैं.
                                                                   

ब्लेकमास्टर नाम के एक स्टूडेंट ने उस Lecture की एक डिटेल नोट्स बना ली थी।  ये नोट्स उनको इतनी काम की लगी कि वो कॉलेज के बाहर भी फैलने लगी।  तब पीटर ने ब्लेकमास्टर के साथ काम करके उस नोट्स को और भी improve किया, और उसकी एक Book भी बना दी, ताकि उनकी City या Country के लोग ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया के लोग उनकी Knowledge का फायदा उठा पायें.
आज हम HamariSafalta.com के सभी पाठकों के साथ उसी किताब के कुछ Principles share करेंगे जो आपको Startup Business में आगे लाने में Help करेगी।

                 Principle No.1 Go from Zero to One.


एक ऐसे टाइम पर जब गाड़ी के लिए घोड़ों का इस्तेमाल किया जाता था, उस टाइम आप यदि लोगों को और तेज घोड़े लाकर देते या बेहतर घोडा गाड़ी बनाकर बिजनेस करते तो आप जो Progress करते तो उसे बोलते हैं :-  One (1) to N

लेकिन यदि आप लोगों को घोड़ा गाड़ी के बजाये traveling का कोई नया तरीका दे देते, एक कार बनाकर जैसे कि हेनरी फोर्ड ने किया तब उस Progress को कहते हैं Zero (0) to 1

अगर आपको Successful बनना है और अपनी लाइफ में कुछ बड़ा अचीव करना है तो 0 to 1 जाओ जिसे हम Vertical progress भी बोलते हैं.  कुछ ऐसा करने की कोशिश कीजिये जो पहले कभी भी नही हुआ हो!
क्योंकि जो चीज पहले से बनी हुई है और आप उसे ही कॉपी कर रहे हो, वो भी उसमे थोड़े-बहुत changes लगाकर तो आप 1 से N जा रहे हैं, जिसे हम Horizontal Progress भी कहते हैं।  लेकिन ये करने के बाद आपको Success मिलने के Chance बहुत कम हो जाते हैं।  और यदि गलती से आपको थोड़ी सक्सेस मिल भी जायेगी तो वह बहुत बड़ी नहीं होगी और ज्यादा टाइम तक भी नहीं टिकेगी। 
Business world में हर बड़ा Achievement बस एक बार होता है,

दुनिया का अगला बिल गेट्स ऑपरेटिंग सिस्टम नहीं बनाएगा।
अगला मार्क जुकरबर्ग एक सोशल नेटवर्क नहीं  Create करेगा।
और अगला लैरी पेज एक नया सर्च इंजन नहीं बनाएगा।

इन सबको बहुत बड़ी सक्सेस मिली क्योंकि ये सभी  0 से 1 गए, पर अगर आप इन्हें Exactly copy करने का Try करेंगे तो आप बस 1 से N जा पायेंगे जो कि एक बेस्ट ओप्शन बिलकुल भी नहीं है ...


जरूर पढ़ें:- एक Successful Startup Business कैसे बनाएँ?  How to Build a Successful Startup Business in Hindi?  


           Principle No.2 Become a Monopoly  Avoid Competition

हम ऐसे समाज में रहते हैं जहाँ Competitionको बहुत Encourage मिलता है. हमारा एजुकेशन सिस्टम बच्चों को बचपन से ही Compete करना सिखाता है. पहले वो Marks के लिए एक-दूसरे से Compete करते हैं, फिर जॉब के लिए और फिर यदि कोई नहीं मिलता तो अपने पडौसी के साथ ही Compete करने लगते हैं। 
पडौसी से ज्यादा अच्छी कार रखना, उससे बड़ी टी.वी रखना, ये सब स्टुपिड चीजें competition बन जाती हैं.
पर सच तो ये है कि Competition आपको mostly हर चीज के लिए loss ही देगा.
Business में भी Competition जहर जैसा होता है,
Peter बताते हैं कि Competition और Capitalism opposite हैं... एक Profit generate करने से related है और दूसरा profit को खत्म करने से related है..
आपके बिजनेस मार्केट में जितना ज्यादा competition होगा, उतना कम आप profit कमा पायेंगे, फिर चाहे आपका बिजनेस कितना भी बड़ा क्यों न हो!
Example:-
US की Airline company करोड़ों और अरबों में पैसे बनाती है, पर फिर भी 2012 में वो कम्पनी एक पेसेंजर पे बस 37 Cent का Profit कमा पाई थी।    अब आइये इसे compare करते हैं Google से:-
Google ने उसी साल total 50 Billion बनाये थे, जबकि Airlines ने 160 Billion.  लेकिन गूगल ने 50 Billion में 21% का Profit बनाया था. जो कि Airlines की Company के profit से 100 गुना ज्यादा था.
ऐसा इसीलिए हुआ क्योंकि Airlines कम्पनी एक दूसरे से Compete करने के चक्कर में अपने टिकिट के दाम कम कर रही थी.  लेकिन दूसरी तरफ गूगल अकेले ही अपना ज्यादातर अपना मार्केट Dominate का रहा था, बिना किसी से Profit के लिए Compete करे..
आज के टाइम पर यदि हम सारे Airlines company के profit को एक कर दें फिर भी गूगल उनसे तीन गुना ज्यादा का फायदा कमाता है.
गूगल ऐसा कर पाता है क्योंकि गूगल का सर्च इंजन Monopoly है और इस चीज में कोई भी उसका कोई भी बड़ा Competitor नहीं है ..
अगर आपको इंटरनेट में कुछ भी सर्च करने के लिए कहा जाए तो आप बिना सोचे गूगल ही करेंगे.. क्योंकि आपको पता है कि इसके लिए गूगल ही बेस्ट है..
ठीक इसी तरह आपको भी कोई बड़ी सक्सेस चाहिये तो आपको भी Monopoly create करनी चाहिए, आपके प्रोडक्ट या सर्विस की जिसमे आपसे बेटर कोई दूसरा ओप्शन हो ही न लोगों के पास..



   Principle NO. 3 Start with a Niche Market & then Dominate 
Amazon एक ऎसी वेबसाइट है जहाँ A to Z आपको सब सामान मिल जाएगा. पर Amazon ने अपनी शुरुआत ऐसे नहीं की थी .. Start में Amazon ने एक छोटे से मार्केट पर Concentrate किया, वो मार्केट था बुक्स पढ़ने वाले लोगों का..
इससे पहले तक किताबें सिर्फ Book stores पर मिला करती थीं. जिसके बाद बहुत सी बुक्स, बहुत खोजने पर भी लोगों को मिल नहीं पाती थीं. और Book publishers को बहुत loss होता था. उसके बाद Amazon ने एक Online book store बनाकर 0 to 1 Progress लाया. इससे बहुत लोगों का बहुत फायदा हुआ.
Books के बिजनेस में सफल होने के बाद Amazon ने और दूसरे बुक्स से रिलेटेड प्रोडक्ट्स जैसे- सी.डी., डी.वी.डी. बेचना शुरू किया और फिर धीरे-धीरे अपना हर मार्केट को डोमिनेट कर दिया..

हमेशा एक बात याद रखिये कि एक बड़े से तालाब में एक छोटी-सी मछली, जिसे दूसरी बड़ी मछलियाँ कभी भी आराम से खाकर खत्म कर दे वो बनने से बेहतर है कि आप एक छोटे-से तालाब की बड़ी मछली बनो और फिर बड़े तालाब में जाओ ..
जब आप ये सारी बातें याद रखकर Start up करेंगे तो आपके सफल होने के chances बहुत बढ़ जायेंगे ...



दोस्तों यह पूरी आर्टिकल एक बेहतरीन किताब  Zero to One  से प्रेरित है जिसके Author
Peter Thiel   हैं..
उम्मीद करते हैं कि यह आर्टिकल आपको पसंद आया हो और यह भी आशा करते हैं कि इन 3 Principles का Use आप अपनी Real Life में भी करेंगे...औरअपने बिजनेस को आगे लाने में सहायक साबित होंगे



कृपया इसका एनिमेटेड विडियो जरूर देखें ... और इस बेहतरीन  यूट्यूब चैनल को जरूर सबस्क्राइब कीजिये...


Labels: , , , ,